वन नेशन वन राशन कार्ड योजना क्या है :आवदेन

वन नेशन वन राशन कार्ड योजना-देश के गरीब और मौजूदर वर्ग के लिए बहुत समय के राशन कम दामो में उपलब्ध कराए जाता रहा है।लेकिन दिक्कत तब आती है जब प्रवशिए मजदूर किसी दूसरे राज्यो में जा के रहते है और वाला उनको राशन नहीं मिल पाता।इसी समस्या को दूर करने के लिए इस योजना को मोदी सरकार ले के आई है।इसका फायदा यह होगा कि अब आप किसी दूसरे राज्य में रहते हुए अपने हिस्से का राशन कम कीमत में के पाएंगे।इस आर्टिकल में हम जानेंगे वन नेशन वन राशन कार्ड योजना क्या है :आवदेन के बारे में जानेगे।

आपको पता होना चाहिए कि देश में अनाज कि कोई कमी नहीं है एफसीआई में लाखो क्विंटल अनाज परे है बस उनको बितारण करने की सुचारु तरीका नहीं था।पर अब आधार बसेड वेरिफिकेशन के जरिए लगभग 65 करोड़ लोगो को इसका लाभ मिल पाएगा ।

वन नेशन वन राशन कार्ड योजना क्या है :आवदेन

वन नेशन वन राशन कार्ड क्या है

डेटा डिजिटाइजेशन के बाद परिवार का कोई सदस्य अगर दूसरे सहर ने है तो भी अपने पीडीएस पे जाके अनाज के सकता है। अभी तक 24 राज्य और केंद्र शासित प्रदेश इससे जुड़ चुके है ।इसे मार्च 2021 तक पूरे देश में लागू करने का लक्ष्य है।

इसका सारा खर्च केंद्र सरकार उठाएगी लगभग 1 करोड़ 71 हजार करोड़ रूपए की सब्सीडी केंद्र सरकार इसमें दे रही है और 10000 करोड़ राज्य सरकार सब्सिडी दे रही है।राष्ट्रीय खदया सुरक्षा अधिनियम के जरिए 81करोड़ लोग उसका लाभ उठाएंगे ।

सब कुछ डिजिटाइज होने से आप देख पाएंगे कि किस क्षेत्र में कितना राशन मौजूद है और किस क्षेत्र में कितना वितरण हुआ ।किस रेट में उठाया गया और किस रेट में बेचा गया।सब ऑनलाइन अवैलेबल है।

सप्लाई चेन को भी डिजिटाइज किया गया है।जहा से लोग आए और जहा को लोग जाते है वाहा का डेटा कलेक्ट किया गया और आधार बेस्ड लिंकिंग कि गई जिससे कि बोगस राशन कार्ड की मात्रा बहुत कम हो गई है।

पीएम स्वानिधी योजना :ऑनलाइन आवेदन

वन नेशन वन राशन कार्ड योजना के मुख्य बिंदु

योजना का नामवन नेशन वन राशन कार्ड योजना
शुरू किसके द्वारा किया गया श्री रामविलास पासवान (खाद्य मंत्री)
कब सुरु हुआ 30 जून 2020
योजना का उद्देश्यकिसी भी राज्य के राशन कार्ड धारक को किसी दूसरे राज्य में सब्सिडी पर राशन उपलब्ध कराना ।
योजना लागू करने की अंतिम तिथि30 जून 2020
लाभार्थीजिसके पास रासन कार्ड है

वन नेशन वन राशन कब लागु हुआ

श्री राम विलास पासवान जी देश के खाद्य मंत्री ने बताया कि 10 राज्यों में इस योजना को 30 जून 2020 तक लागू कर दिया जाएगा ,जिस जिस राज्य में  एक देश एक राशन कार्ड योजना चलाई जाएगी । इस साल 1 जनवरी को 12 राज्य एक-दूसरे के बीच एकीकृत हो गए और अब 17 राज्य सार्वजनिक वितरण प्रणाली (पीडीएस) के एकीकृत प्रबंधन में आ गए है , देश के बाकी हिस्सों को इस साल जून तक इस योजना में शामिल करने का लक्ष्य है | इसमें खाद्य सुरक्षा अधिनियम के तहत कवर किए गए 81 करोड़ में से 60 करोड़ लोगो को लाभ होगा । 

वन नेशन वन राशन कार्ड कैसे बनेगा

वन नेशन वन राशन कार्ड इसको बनाने के बारे मे अगर आप सोच रहे है तो जान जाईये की इसमें आपको कुछ नहीं करना है इसके लिए राज्य सरकार ही अपने तरफ से पहले से जुड़े रासन कार्ड को उसमे जोड़ेगी। वैसे अगर आपके पास रासन कार्ड नहीं है तो आप उसके लिए अप्लाई कर सकते है।

नेशनल पोर्टेबिलिटी हेल्पलाइन नंबर -14445 पे भी आप अपने राशन कार्ड और आपके आसपास कोई राशन वितरण कि व्यवस्था है कि नहीं उसको जानकारी मिल जाएगी।

यूपी राज्य कि बात की जाए तो लॉकडॉउन के दौरान लगभग 35 लाख प्रवाशिए लौट के आए थे उन सबका डेटा राज्य सरकार के पास है वे जब भी फिर से बाहर जाते है तो उन्हें इस वन नेशनल वन राशनकार्ड का फायदा मिल पाएगा ।यूपी में 1 मई 2020 तक 14 करोड़ 60 लाख लोग इसके लाभार्थी है इसका सारा डेटा यूपी सरकार के पास है।जिसका आधार बेस्ड identification हो चूकि है।

वन नेशन वन राशन कार्ड लोगो तक कैसे पहुंचेगा

इसके प्रचार और प्रसार के लिए पंचायत और लोकल बॉडीज जैसे मुनिस्पाल कॉर्पोरेशन द्वारा इसका प्रचार प्रसार हो रहा है।लोकल लैंग्वेज में भी मोबाइल पे मैसेज के जरिए इसका प्रचार हो रहा है। लेबर कमीशन के जरिए जो मजदूर फैक्ट्री में काम करते है उनको भी इससे जोर जा रहा है।फैक्ट्री के मालिक भी अपने मजदूर को इससे जोड़ने में मदा कर रहे है।आईआईटी ,आईआईएम से भी इंटर्नशिप करवा के लोगो को सोशल रिफॉर्म में अपना योगदान देने के लिए सरकार पहल कर रही है।

तो आप जान गए होंगे की वन नेशन वन राशन कार्ड योजना क्या है :आवदेन कैसे करे क्या इसका उद्देस्य है।

Leave a Comment